Translate

आप के लिए

हिन्दुस्तान का इतिहास-.धर्म, आध्यात्म, संस्कृति - व अन्य हमारे विचार जो आप के लिए है !

यह सभी को ज्ञान प्रसार का अधिकार देता है। यह एेसा माध्यम है जो आप के विचारों को समाज तक पहुचाना चाहाता है । आप के पास यदि कोई विचार हो तो हमे भेजे आप के विचार का सम्मान किया जायेगा।
भेजने के लिए E-mail - ravikumarmahajan@gmail.com

11 April 2015

नबी और रसूल

इस्लाम के अनुसार ने धरती पर मनुष्य के मार्ग दर्शन के लिए  ईश्वर ने समय समय पर किसी व्यक्ति को अपना दूत बनाया। यह दूत भी मनुष्य जाति में से होते थे। और  ईश्वर की और लोगों को बुलाते थे।  ईश्वर इन दूतों से विभन्न रुपों से सम्पर्क रखते थे।  इन को इस्लाम में नबी कहते है। 

जिन नबियों को ईश्वर ने स्वयं, शास्त्र या धर्म पुस्तकें प्रदान की उन्हे रसूल कहते है। मुहम्मद (सल्लाल्लहु अलैहि वस्सल्लाम्) साहब भी इसी कडी का भाग थे। उनको जो धार्मिक पुस्तक प्रदान की कई उसका नाम कुरान है। कुरान में  ईश्वर के 29 अन्य नबियों का वर्णन है। स्वयं कुरान के अनुसार  ईश्वर ने इन नबियों के अलावा धरती पर और भी कई नबी भेजे है जिनका वर्णन कुरान में नहीं है। लगभग संसार में 124000 नबी(दूत)का वर्णन कुरान में है। सभी मुसलमान  ईश्वर द्वारा भेजे इन नबियों की वैधता स्वीकार करते है और मुसलमान मुहम्मद साहब को  ईश्वर का अन्तिम नबी मानते है। 

No comments:

Post a Comment

धन्यवाद